नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 9695646163 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें.
December 9, 2022

Raftaar India news

No.1 news portal of India

मनीष हत्याकांड का निलंबित 1लाख का इनामिया दारोग़ा गिरफ्तार-

1 min read

रफ्तार इंडिया न्यूज़-चैनल-गोरखपुर-यूपी-
ब्यूरों-रिपोर्ट-गोरखपुर-
गोरखपुर पुलिस को बड़ी क़ामयाबी हत्यारोपी निलंबित दारोग़ा गिरफ्तार-
कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत मामले में छठवें हत्यारोपी निलंबित दरोगा विजय यादव को शनिवार को कैंट पुलिस ने रेल म्युजियम के पास से गिरफ्तार कर लिया।

गोरखपुर:मनीष हत्याकांड में छठवां आरोपी गिरफ्तार,एक लाख का इनामी था दरोगा विजय यादव-रफ़्तार इंडिया न्यूज़-चैनल गोरखपुर-
Published by:sushil kumar Updated Sat,17Oct 2021 05:02PM IST
R.India News-
गोरखपुर में हुए मनीष गुप्ता हत्याकांड में रामगढ़ताल थाने में तैनात इंस्पेक्टर जेएन सिंह,दरोगा अक्षय मिश्रा,दरोगा राहुल दुबे,मुख्य आरक्षी कमलेश यादव,आरक्षी प्रशांत कुमार और दरोगा विजय यादव को आरोपी बनाया गया है।

आरोपी दरोगा विजय यादव-फ़ाइल फ़ोटो-
कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत मामले में छठवें हत्यारोपी निलंबित दरोगा विजय यादव को शनिवार को कैंट पुलिस ने रेल म्युजियम के पास से गिरफ्तार कर लिया।
वह कोर्ट में सरेंडर करने के लिए आया था,इसी बीच मुखबिर की सूचना पर कैंट इंस्पेक्टर सुधीर सिंह की टीम ने आरोपी को पकड़ लिया। जौनपुर निवासी विजय पर भी एक लाख रुपये का इनाम था। पुलिस ने आरोपी को एसआईटी को सुपुर्द कर दिया है। रामगढ़ताल थाने में एसआईटी आरोपी दरोगा से पूछताछ कर रही है।

जानकारी के मुताबिक,मनीष की मौत मामले में पुलिस ने छह हत्यारोपी पुलिस वालों की तलाश में थी। जौनपुर जिले के बख्शा थानाक्षेत्र स्थित चितौड़ी गांव का रहने वाला दरोगा विजय यादव फरार चल रहा था। उसे पकड़ने के लिए क्राइम ब्रांच,रामगढ़ताल पुलिस के साथ ही एसआईटी कानपुर की टीम गाजीपुर, जौनपुर लखनऊ के साथ ही दोस्तों और रिश्तेदारों के घर के छापेमारी कर रही थी। लेकिन विजय यादव पकड़ से दूर था-

शनिवार की दोपहर विजय सीजेएम कोर्ट में सरेंडर करने के फिराक में गोरखपुर पहुंचा था। सूचना पर पहुंचे कैंट थाना प्रभारी सुधीर सिंह ने घेराबंदी कर दबोच लिया। एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने बताया कि फरार चल रहे दारोगा विजय यादव को कैंट पुलिस ने पकड़कर एसआइटी को सुपुर्द कर दिया है। कोर्ट में सरेंडर करने के इरादे से वह गोरखपुर आया था। मनीष गुप्ता हत्याकांड में रामगढ़ताल थाने में तैनात इंस्पेक्टर जेएन सिंह,दरोगा अक्षय मिश्रा,दरोगा राहुल दुबे,मुख्य आरक्षी कमलेश यादव,आरक्षी प्रशांत कुमार और दरोगा विजय यादव को आरोपी बनाया गया है।
पूरा मामला…
कानपुर के बर्रा निवासी कारोबारी मनीष गुप्ता 27 सितंबर की सुबह आठ बजे गोरखपुर अपने दो दोस्तों हरवीर व प्रदीप के साथ घूमने आए थे। तीनों तारामंडल स्थित होटल कृष्णा पैलेस के कमरा नंबर 512 में ठहरे थे। 27 सितंबर की रात ही रामगढ़ताल थाना प्रभारी इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह, फलमंडी चौकी प्रभारी रहे अक्षय मिश्रा सहित छह पुलिस वाले आधी रात के बाद होटल में चेकिंग को पहुंच गए थे। कमरे की तलाशी लेने पर मनीष ने आपत्ति जताई तो पुलिसकर्मियों से उनका विवाद हो गया।
आरोप है कि पुलिस वालों ने उनकी पिटाई कर दी थी जिससे उनकी मौत हो गई थी। शुरुआत में पुलिस की ओर से नशे में गिरने से मौत बताया था मगर बाद में हत्या का केस दर्ज किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनीष के शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले। मनीष की पत्नी मीनाक्षी की तहरीर पर पुलिस ने तीन नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया,तब जाकर परिवार के लोग शव लेकर कानपुर रवाना हुए थे।
रफ़्तार इंडिया न्यूज़-चैनल-गोरखपुर-यूपी-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2021 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:+91 8920664806