नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 9695646163 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें.
November 27, 2022

Raftaar India news

No.1 news portal of India

बारबंकी: पुलिस ने 6 घंटे में सुलझाया अपहरण और हत्या का मामला, आरोपियों को किया गिरफ्तार

1 min read

रफ़्तार इंडिया न्यूज़ ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में एक दोस्त ने अपने सहयोगी दोस्त के साथ मिलकर अपने दोस्त का पहले तो अपहरण किया फिर उसके घर वालों से फिरौती के 50 से 60 लाख रुपये मांगे, मामला बिगड़ता देख दोनो ने मिलकर उसकी हत्या कर दी और लाश को जमुरिया नाले में फेंक दिया, घटना के बाद परिजनों ने मामले की सूचना जिंले के पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद से ही जिसके बाद पुलिस ने घटना का 6 घण्टे में खुलासा कर दिया ,मामला बाराबंकी के कोतवाली नगर क्षेत्र के फतहाबाद का है.

पुलिस अधीक्षक बाराबंकी यमुना प्रसाद ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का खुलासा किया है पुलिस अधीक्षक के अनुसार स्वाट और सर्विलांस टीम सहित थाना कोतवाली नगर की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा अपहरण कर हत्या करने की घटना का 06 घण्टे के अन्दर खुलासा कर अपहरण कर/हत्याकारित करने वाले 02 अभियुक्त गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस के अनुसार क़ल बीते 14 अक्टूबर को फतहाबाद थाना कोतवाली नगर के रहने वाले म्रतक बेटे के पिता बूंदीलाल गौतम ने थाना कोतवली पर तहरीर दी कि कल 14 अक्टूबर समय 2 बजे उनका छोटा पुत्र उम्र 17 वर्ष दोस्त के घर जाने की बात कहकर गया था उसके बाद उसका मोबाइल ऑफ हो गया. शाम को करीब 07.30 बजे उनके बड़े बेटे ने छोटे बेटे के पास फोन किया तो किसी दूसरे व्यक्ति ने फोन रिसीव किया और कहा कि वो लखनऊ से बोल रहा है, तुम्हारे भाई का अपहरण हो गया है, उन्हें 50-60 लाख रूपये चाहिए तब उनका भाई मिलेगा अगर पुलिस से शिकायत की तो तुम्हारा भाई नही मिलेगा. इस सूचना पर थाना कोतवाली नगर पुलिस द्वारा अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी.

पुलिस के अनुसार क़ल बीते 14 अक्टूबर को फतहाबाद थाना कोतवाली नगर के रहने वाले म्रतक बेटे के पिता बूंदीलाल गौतम ने थाना कोतवली पर तहरीर दी कि कल 14 अक्टूबर समय 2 बजे उनका छोटा पुत्र उम्र 17 वर्ष दोस्त के घर जाने की बात कहकर गया था उसके बाद उसका मोबाइल ऑफ हो गया. शाम को करीब 07.30 बजे उनके बड़े बेटे ने छोटे बेटे के पास फोन किया तो किसी दूसरे व्यक्ति ने फोन रिसीव किया और कहा कि वो लखनऊ से बोल रहा है, तुम्हारे भाई का अपहरण हो गया है, उन्हें 50-60 लाख रूपये चाहिए तब उनका भाई मिलेगा अगर पुलिस से शिकायत की तो तुम्हारा भाई नही मिलेगा. इस सूचना पर थाना कोतवाली नगर पुलिस द्वारा अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी.

पुलिस के अनुसार पूछताछ व साक्ष्य से प्रकाश में आया कि अभियुक्त सत्येन्द्र व मृतक आपस में रिश्तेदार है और एक-दूसरे के यहां आना जाना था. सत्येन्द्र जो जनपद बलिया का रहने वाला है, पिछले 06 माह से सरस्वती बिहार कालोनी लखपेड़ाबाग में किराये के मकान में रहता था और राज मिस्त्री का काम करता था. सत्येन्द्र के मामा का घर कुरीलपुर दादरा थाना सफदरगंज बाराबंकी में है जहां उसका आना-जाना रहता था और वहीं से उसकी जान-पहचान नागेन्द्र से थी ,13 अक्टूबर को सत्येन्द्र के मामा के लड़की की शादी कुरीलपुर में थी जहां सत्येन्द्र और नागेन्द्र की मुलाकात हुई. इन दोनों ने अपने खर्चों को पूरा करने एवं बहुत सारे रूपये के लिए बाराबंकी के फतहाबाद निवासी बूंदीलाल गौतम के छोटे बेटे का अपहरण कर पैसा मांगने/फिरौती का प्लान बनाया तथा फिरौती की रकम को आपस बांट लेने की सहमति बनाई.

श्री बूंदीलाल गौतम का छोटा बेटा इण्टर की पढ़ाई पूरी करके लखनऊ में सिविल सर्विसेज की कोचिंग कर रहा था. अपहृत/मृतक की मां अध्यापिका है और पिता एडवोकेट है. योजना के मुताबिक दिनांक-14 अक्टूबर को नागेन्द्र, सत्येन्द्र के किराये के मकान सरस्वती बिहार पर आकर रूका तथा समय लगभग 1.30 बजे सत्येन्द्र अपनी मोटर साइकिल से अपहृत/मृतक को उसके मोह्लले फतहाबाद से लिया और लौटते समय शराब/बीयर आदि लेकर किराये के मकान पर आया. बन्द कमरे के अन्दर तीनों लोगों ने शराब/बीयर पिया उसके बाद सत्येन्द्र ने अपहृत/मृतक को घरवालों से पैसा मांगने के लिए कहा तो अपहृत/मृतक तैयार नहीं हुआ और आपस में कहासुनी होने लगी. लगभग 3.30 बजे के करीब सत्येन्द्र ने पास में रखे लोहे के तवे को उठाकर अपहृत/मृतक के सिर पर मार दिया जब वह छटपटाने लगा तो नागेन्द्र ने अपने गमछे से अपहृत/मृतक का गला कस कर हत्या कर दी और शव को तखत के नीचे डालकर घर के बाहर ताला बन्दकर शहर में घुमने निकल गये. अपहृत/मृतक का मोबाइल फोन फ्लाइट मोड पर कर दिया.

शाम करीब 7.30 बजे थोड़ी देर के लिए मोबाइल को फ्लाइट मोड से हटाया तो अपहृत/मृतक के बड़े भाई अनुराग उर्फ सोनू का फोन आया. फोन को नागेन्द्र ने रिसीव किया तथा अनुराग उर्फ सोनू से रफीक बनकर बात किया एवं फिरौती की मांग की गयी. उसके उपरान्त रात्रि में 12.30 बजे के करीब सत्येन्द्र और नागेन्द्र ने शव को मोटर साइकिल स्पेलेन्डर पर रखकर उसी मोहल्ले के एक नाले के अन्दर ले जाकर दोनों ने शव को ईट से दबा दिया और उसके ऊपर नाले में बह रहे गन्दे कपड़ों से ढक दिया. अभियुक्तगण की निशादेही पर मोबाइल, गमछा बरामद किया गया. अभियुक्तगण द्वारा घटना स्वीकार करते हुए सम्पूर्ण घटना क्रम को स्वयं बताया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2021 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:+91 8920664806